रविवार, मई 08, 2011

आज फिर सहर एक शाम लाई है

ये कैसी सहर हुई है आज, कि हर ओर सांझ नज़र आती है,
तन्हा गलियों में पसरी सी पगलाई ये सियाही नज़र आती है.

कल रात सोचा था रोशनी का इंतज़ार करेंगे,
छिटक कर दूर हर बुरे ख्वाब को,
मेहबूबो यार का फिर एहतराम करेंगे.

मगर ये क्या हुआ कि,
आज फिर सूरज रूठ गया,
अपनी रोशनी को समेट,
आज मेरे साये को भी जुदा कर गया.

मुझे तो चलना है आज भी,
सियाह गलियों में,
खस्ता हाल फुटपाथों के पत्थरों को उछालते हुए,
सुना है,
इस गली के मोड़ से जो रास्ता जाता है,
वो रोशनी के चौराहों पर जा मिलता है.

2 टिप्‍पणियां:

Veena ने कहा…

मैं बता नहीं सकता के आपने कितनी सुन्दरता से इसे लिखा है, बहुत ही लाजवाब है…

Kwlo0NFj2TYo ने कहा…

There are over 300 바카라사이트 video slot video games from one of the best providers within the casino business, Microgaming. So, for every sport you can to|you possibly can} think about, yow will discover at Jackpot City Casino, ranging from traditional reel video games to progressive jackpots. But that isn't all, most likely the most effective part of of} these video games is the fact that|the reality that} they provide huge, life-changing wins.